ईश्वर की रचना की देखभाल के लिए आवश्यक है प्रतिबद्धता। 

सृष्टि के मौसम 2021 के लिए एक संयुक्त संदेश में, संत पिता फ्राँसिस, प्राधिधर्माध्यक्ष बार्थोलोम और कैंटरबरी के महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेल्बी ने सहयोग के महत्व पर जोर दिया और पर्यावरण क्षरण एवं जलवायु परिवर्तन के खतरे के लिए हमारी सामान्य प्रतिक्रिया के आवश्यक भागों के रूप में अल्पकालिक लाभों पर स्थिरता को महत्व दिया।
"एक साल से अधिक समय से, हम सभी ने एक वैश्विक महामारी के विनाशकारी प्रभावों का अनुभव किया है - हम सभी, चाहे गरीब या अमीर, कमजोर या मजबूत। कुछ दूसरों की तुलना में अधिक सुरक्षित या कमजोर थे, लेकिन तेजी से फैल रहे संक्रमण का मतलब था कि हम सुरक्षित रहने के अपने प्रयासों में एक-दूसरे पर निर्भर हैं।”
उक्त अवलोकन के साथ संत पिता फ्राँसिस, प्राधिधर्माध्यक्ष बार्थोलोम प्रथम और कैंटरबरी के महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेल्बी 1 सितंबर को जारी किए गए "सृष्टि के संरक्षण के लिए संयुक्त संदेश" शुरू करते हैं।
धर्मगुरु इस बात पर जोर देते हैं कि इस विश्वव्यापी आपदा का सामना करने में, "कोई भी तब तक सुरक्षित नहीं है जब तक कि सभी सुरक्षित न हों," क्योंकि "हमारे कार्यों का वास्तव में एक दूसरे पर प्रभाव पड़ता है" और "आज हम जो करते हैं उसका प्रभाव कल पर पड़ता है।"

जीवन का चयन
संयुक्त संदेश 1 सितंबर से 4 अक्टूबर तक चलने वाले सृष्टि के मौसम 2021 के बीच में आता है, जो "ईश्वर की रचना के लिए प्रार्थना और देखभाल करने का अवसर" प्रस्तुत करता है। साथ ही विश्व के नेता हमारे ग्रह के भविष्य पर विचार-विमर्श करने के लिए स्कॉटलैंड के ग्लासगो में नवंबर में होने वाले संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (कॉप 26) में मिलने की तैयारी करते हैं।
"इस पल को बर्बाद न करें", धार्मिक नेताओं ने सभी को "यह तय करने के लिए आमंत्रित किया कि हम आने वाली पीढ़ियों के लिए किस तरह की दुनिया छोड़ना चाहते हैं।" हमें अलग तरीके से जीने और "जीवन का चयन" करना चाहिए। इससे भी बढ़कर, ईश्वर आदेश देते हैं, "तुम लोग जीवन को चुन लो, जिससे तुम और तुम्हारी वंशज जीवित रह सकें।"
इस प्रकार, यह संदेश, विश्वास या विश्वदृष्टि की परवाह किए बिना, हम सभी को आमंत्रित करता है, कि हम"पृथ्वी और गरीबों के क्रंदन को सुनने का प्रयास करें, उनके व्यवहार की जांच करें और पृथ्वी की रक्षा के लिए सार्थक बलिदानों की प्रतिज्ञा करें जिसे ईश्वर ने हमें दिया है।"

अल्पकालिक लाभ पर स्थिरता
धार्मिक नेता इस बात को रेखांकित करते हैं कि सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय स्थिरता के लिए एक महत्वपूर्ण प्रारंभिक बिंदु परिचारक है, "हमें ईश्वर प्रदत्त उपहारों की देखभाल के लिए व्यक्तिगत और सामूहिक जिम्मेदारी लेना है।" इस संबंध में, ख्रीस्तीय परंपरा, धर्मग्रंथ और संतगण, हमें वर्तमान और भविष्य दोनों को समझने के लिए दृष्टिकोण प्रदान करते हैं। उदाहरण के लिए, अमीर और मूर्ख व्यक्ति की कहानी, जिसने अपने भंडार में अपने लिए अनाज जमा कर ली किन्तु जीवन के सीमित अंत के बारे में भूल गया, (लूक 12:13-21) और उड़ाऊ पुत्र जिसने अपनी विरासत को बर्बाद कर दिया और अंत में भूखा रह गया (लूक 15:11-32), "एक व्यापक दृष्टिकोण को अपनाने और मानवता की विस्तारित कहानी में हमारे स्थान को पहचानने" और सस्ते विकल्प अपनाने के प्रति सावधान करते हैं।
संयुक्त संदेश में धर्मगुरुओं ने भविष्य की पीढ़ियों की कीमत पर हमारे हितों को अधिकतम करने के खिलाफ चेतावनी देते हुए कहते हैं कि हमारे धन पर ध्यान केंद्रित करने से, लंबी अवधि की संपत्ति, प्रकृति की उदारता सहित, अक्सर अल्पकालिक लाभ के लिए समाप्त हो जाती है। इसके अलावा, प्रौद्योगिकी द्वारा हमें प्रदान की गई प्रगति और धन संचय की नई संभावनाओं के माध्यम से, हम उन तरीकों को व्यवहार में ला सकते हैं जो "अन्य लोगों या ग्रह की सीमाओं के लिए बहुत कम चिंता प्रदर्शित करते हैं।"

गरीब लोग अनुपातहीन रूप से प्रभावित
धर्म गुरु बताते हैं कि जलवायु संकट के बीच, हम जैव विविधता हानि, पर्यावरण क्षरण और जलवायु परिवर्तन द्वारा चिह्नित "कठोर न्याय" के सामने खड़े हैं - हमारे कार्यों के सभी अपरिहार्य परिणाम ग्रह सहन करता है, क्योंकि हमने अपने लालच के कारण "पृथ्वी के संसाधनों का अधिक उपभोग किया है।”
हालाँकि, हम "गंभीर अन्याय" का भी सामना करते हैं, क्योंकि ग्रह पर "इन दुर्व्यवहारों के सबसे विनाशकारी परिणामों को झेलने वाले सबसे गरीब लोग हैं और उन्हें पैदा करने के लिए वे सबसे कम जिम्मेदार हैं।"
संदेश में उन्होंने कहा, "हम न्याय के ईश्वर की सेवा करते हैं, वे अपनी सृष्टि से खुश हैं उन्होंने प्रत्येक व्यक्ति को अपने ही समान बनाया, वे गरीबों की पुकार भी सुनते हैं। तदनुसार, जब हम इस तरह के विनाशकारी अन्याय को देखते हैं, तो पीड़ा के साथ जवाब देने के लिए हमारे भीतर एक सहज प्रतिक्रिया होती है।”

आने वाली पीढ़ी को भी नहीं बख्शा
धर्म गुरु आगे चेतावनी देते हैं कि "कल और भी बुरा हो सकता है" और आज के बच्चों और किशोरों को विनाशकारी परिणामों का सामना करने का जोखिम है जब तक कि हम अपनी दुनिया को "ईश्वर के साथ साथी कार्यकर्ता" के रूप में बनाए रखने की जिम्मेदारी नहीं लेते। इसलिए, वे हमारे बच्चों की खातिर सभी को "खाने, यात्रा करने, खर्च करने, निवेश करने और अलग तरीके से जीवन जीने के लिए आमंत्रित करते हैं, न केवल तत्काल हित और लाभ के बारे में सोचते हैं बल्कि भविष्य के लाभों के बारे में भी सोचते हैं। हम अपनी पीढ़ी के पापों के लिए पश्चाताप करते हैं। हम दुनिया भर में अपनी छोटे बहनों और भाइयों के साथ भविष्य के लिए प्रतिबद्ध प्रार्थना और समर्पित कार्रवाई में खड़े हैं जो ईश्वर की प्रतिज्ञा के अनुरूप है।”

Add new comment

1 + 11 =