शिक्षा से सहिष्णुता और भ्रातृत्व को बढ़ावा। 

पिछले सोमवार को संयुक्त अरब अमीरात के शिक्षा मंत्री और काथलिक शिक्षण हेतु गठिन परमधरमपीठ सम्मेलन के अधिकारी, कार्डिनल जियुसेप्पे वेरसल्दी ने विश्व में सहिष्णुता, सह-अस्तित्व और मानव भाईचारे को बढ़ावा देना हेतु एक सहयोग समौझते पर हस्तक्षर किये।
“विश्व शांति और सह-अस्तित्व हेतु भ्रातृत्व” एक दस्तावेज जो दो साल पूर्व आबु धाबी में संत पापा और गैंड इम्मान अल-अजहर अहमद अल-तैय्यब के द्वारा हस्ताक्षर किया गया था शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर फलप्रद सिद्ध हो रहा है। कार्डिनल वेरसल्दी ने कहा कि इस संबंध में शेख नाहयान बिन मुबारक अल नाहयान, सहिष्णुता और सह-अस्तित्व विभाग के मंत्री ने संत पापा की पहल हेतु कृतज्ञता के भाव प्रकट किये।
गाइ-रियल थिविर्ज, शिक्षण हेतु गठित परमधर्माध्यक्षीय संस्थान ग्रेविसिमुम एजुकेशनिस के महासचिव और इस संस्थान के राजदूत ताजदीन सेफ के संग कार्डिनल वेरसल्दी ने, आबु धाबी की अपनी विगत दिनों की यात्रा में, इस बात का उल्लेख किया कि यह एक महत्वपूर्ण कदम है, यद्यपि शिक्षा के क्षेत्र और इससे संबंधित कार्यक्रमों छोटे ही स्तर पर क्यों न आयोजित किये जाते हों। उन्होंने कहा, “हमारे छात्रगण और अरब विद्यालों के विद्यार्थी ठोस रुप आपसी विभिन्नताओं का सम्मान करते हुए एक साथ मिलकर सेमिनारों में सहभागी हो सकेंगे। बिना किसी धर्मपरिवर्तन के, वे सामान्य मूल्यों के आधार पर एक-दूसरे की संस्थानों की भेंट कर सकते हैं।”
कार्डिनल ने इस बार जोर दिया महामारी के उपरांत हमारा प्रयास होगा कि हम शिक्षकों और छात्रों को प्रभावकारी रुप से संस्कृति के आदान-प्रदान हेतु विभिन्न कार्यक्रमों की एक रुपरेखा में सम्मिलित करेंगे।

Add new comment

5 + 2 =