पोप ने नॉर्वे, अफगानिस्तान, ब्रिटेन के पीड़ितों को याद किया। 

संत पिता फ्राँसिस ने नार्वे, अफगानिस्तान और ब्रिटेन में पिछले एक सप्ताह में हुए हमलों में हिंसा के पीड़ितों को याद किया। उन्होंने फादर जोन इलियास मदीना और 126 साथियों के धन्य घोषणा समारोह को भी याद किया, जो 1930 के दशक में स्पेन में शहीद हुए थे।
रविवार को संत पेत्रुस महागिरजाघऱ के प्रांगण में एकत्रित विश्वासियों के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के बाद संत पिता फ्राँसिस ने स्पेन के कॉर्डोबा में शनिवार 16 अक्टूबर को फादर जोन एलियास मदीना और126 साथियों के धन्य घोषणा समारोह को भी याद किया, जो 1930 के दशक में स्पेन में शहीद हुए थे। स्पेन में हिंसक धार्मिक उत्पीड़न के दौरान धर्म के प्रति घृणा में मारे गए लोगों में पुरोहित, धर्मसंघी, गुरुकुल के छात्र और लोकधर्मी थे। उन्होंने कहा, "उनकी निष्ठा हम सभी को शक्ति प्रदान करे, विशेष रूप से दुनिया के विभिन्न हिस्सों में उत्पीड़ित ख्रीस्तियों को साहसपूर्वक सुसमाचार का साक्ष्य देने की शक्ति प्रदान करें।"
संत पिता फ्राँसिस ने पिछले सप्ताह नॉर्वे, अफगानिस्तान और ब्रिटेन में हुए हमलों में कई मौतों और घायल लोगों के प्रति अपना दुख व्यक्त किया। संत पापा ने अपने प्रियजनों को खोने वाले परिवारों के प्रति अपनी निकटता व्यक्त की। उन्होंने अपराधियों से हिंसा के रास्ते को छोड़ने की भी अपील की, जो हमेशा सभी के लिए एक हार है और यह केवल हिंसा को ही आगे बढ़ाती जाती है।
नॉर्वे में एक व्यक्ति ने बुधवार 13 अक्टूबर की शाम को दक्षिण-पूर्व में छोटे शहर कोंग्सबर्ग में धनुष और तीर से लैस होकर, विभिन्न क्षेत्रों में राहगीरों को निशाना बनाना शुरू कर दिया। मरने वालों की संख्या पांच थी, जिसमें एक कानून प्रवर्तन अधिकारी भी शामिल था। वह व्यक्ति आतंकवादी नहीं बल्कि मानसिक विकारों से जुड़ा हुआ प्रतीत होता है। हालांकि, अफगानिस्तान में एक अधिक गंभीर मौत दर्ज की गई है। अगस्त से तालिबान द्वारा संचालित देश में कुरानी छात्रों और आईएसआईएस की सशस्त्र शाखा के बीच बढ़ती प्रतिद्वंद्विता के कारण आतंकवादी हमले हुए हैं। नवीनतम, 15 अक्टूबर को, लगभग अस्सी पीड़ितों के साथ कुंदुज में नरसंहार के सात दिनों से भी कम समय के बाद, कंधार में एक शिया मस्जिद में घातक हमले हुए और 40 से अधिक लोगों की मौत और लगभग 70 लोगों के घायल होने की खबर मिली है।
सोमाली मूल के 25 वर्षीय ब्रिटिश अली हर्बी अली द्वारा पिछले शुक्रवार को रूढ़िवादी डिप्टी सर डेविड एमेस की हत्या के लिए गिरफ्तार किया गया, जो, बेलफेयर मेथोडिस्ट गिरजाघर में अपने लोगों से मिलते समय मारे गए। अली अतीत में सर डेविड के निर्वाचन क्षेत्र में रहते थे और आतंकवाद विरोधी के लिए जाने जाते थे और कुछ साल पहले डी-राडिकलाइजेशन कार्यक्रम में शामिल थे। अल-कायदा की एक शाखा से पैदा हुए आतंकवादी समूह अल-शबाब के जिहादियों के साथ संबंधों की संभावना पर विचार किया जा रहा है जो सोमालिया और केन्या के बीच काम कर रहा है।

Add new comment

7 + 9 =