पोप ने ट्वीट कर बच्चों को प्रार्थना करने हेतु प्रोत्साहित किया। 

संत पिता फ्राँसिस ने विभिन्न मुद्दों को लेकर रविवार 17 अक्टूबर को तीन ट्वीट और 18 अक्टूबर को "दस लाख बच्चे रोजरी प्रार्थना करते हुए" शांति के लिए अभियान पर दो ट्वीट किया
काथलिक कलीसिया ने रविवारीय धर्मविधि में शब्द समारोह के लिए संत मारकुस के सुसमाचार 10:35-45 का चयन किया। जहाँ सेवाभाव के महत्व की चर्चा है। संत पिता फ्राँसिस ने पाठ पर चिंतन करते हुए ट्वीट किया। संत पापा ने 18 अक्टूबर सुसमाचार लेखक संत लूकस के पर्व दिवस पर "दस लाख बच्चे रोजरी प्रार्थना करते हुए" शांति के लिए अभियान में बच्चों को रोजरी प्रार्थना करने के लिए प्रोत्साहित किया।
संदेश में संत पिता फ्राँसिस ने लिखा, “येसु हमें उन लोगों के जीवन में जिनसे हम मिलते हैं, करुणा के साथ पेश आने के लिए कहते हैं जैसा उसने हमारे साथ किया है। ईश्वर प्रेम है और प्रेम विनम्र है, वे अपने आप को ऊंचाई में नहीं रखते, बल्कि उस बारिश की तरह उतरते हैं जो पृथ्वी पर गिरती है और जीवन लाती है।” (मारकुस 10:35-45)
दूसरे ट्वीट में संत पिता फ्राँसिस ने पर्याहरण की सुरक्षा और गरीबी से लड़ने के लिए रणनीतियाँ बहाल करने और उन्हें कार्यरुप देने हेतु प्रेरित किया।
संदेश में उन्होंने लिखा, “पर्यावरण और सामाजिक संकट एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। इसलिए, उन्हें हल करने की रणनीतियाँ गरीबी से लड़ने के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण की मांग करती हैं, बहिष्कृत लोगों की गरिमा बहाल करती है और साथ ही प्रकृति की रक्षा करती है।” #गरीबी का खातमा
धर्माध्यक्षों की धर्मसभा 2023 की तैयारी हेतु विश्व के सभी धर्मप्रांतों में धर्मसभा की शुरुआत रविवार 17 अक्टूबर से शुरु हुई। इसी के मद्देनजर संत पापा ने ट्वीट कर सभी विश्वासियों से पवित्र आत्मा की आवाज सुनने हेतु अपने आप को खोलने के लिए प्रेरित किया।
संदेश में संत पिता फ्राँसिस ने लिखा,  “प्रिय भाइयों और बहनों, आपका सफर मंगलमय हो! हम पवित्र आत्मा के आश्चर्यों, मुलाकात की कृपा, पारस्परिक श्रवण और विवेक के लिए खुले हों, खुशी से आश्वस्त हों कि, जैसे हम प्रभु की तलाश करते हैं, वे हमेशा अपना प्यार लिए हमसे पहले मिलने के लिए आते हैं।” #धर्मसभा #सुननेवाली कलीसिया
एड टू द चर्च इन नीड द्वारा आयोजित अभियान में विश्वभर से लाखों बच्चे रोजरी प्रार्थना में भाग ले रहे हैं। संत पिता फ्राँसिस ने ट्वीट कर बच्चों को प्रार्थना करने के लिए प्रोत्साहित किया।
संदेश में उन्होंने लिखा, “आज दुनिया भर में हजारों बच्चे एड टू द चर्च इन नीड द्वारा आयोजित अभियान में भाग ले रहे हैं, एकता और शांति के लिए रोजरीमाला की प्रार्थना कर रहे हैं। आइए, हम उनके साथ मिलकर माता मरियम से उसी तरह की प्रार्थना करें जिस तरह इन छोटों का विश्वास हमारी स्वर्गीय माता पर है।” # प्रार्थना करते बच्चे
“हर दिन दृढ़ता से रोजरी प्रार्थना का पाठ करते हुए हम एक-दूसरे से और माता मरियम से मिल सकते हैं। उनसे हम सीख सकते हैं कि हम में से प्रत्येक के लिए ईश्वर के पास जो मुक्ति की योजना है, उसमें पूरी तरह से सहयोग कैसे करें।” # प्रार्थना करते बच्चे

Add new comment

16 + 0 =