अपहृत सिस्टर ग्लोरिया अब मुक्त हो गई! 

माली में 2017 में अपहरण की गई फ्रांसिस्कन सिस्टर ग्लोरिया सिसिलिया नारवेज आखिरकार मुक्त और तन मन से स्वास्थ्य है। रविवार की सुबह धर्मसभा प्रक्रिया की शुरुआत के लिए मनाए जाने वाले पवित्र मिस्सा समारोह में संत पापा फ्राँसिस ने उनका अभिवादन किया।
अपार खुशी के साथ इस घोषणा का स्वागत किया है कि कोलंबिया में जन्मी फ़्रांसिसन सिस्टर ग्लोरिया नारवेज़ जिहादियों के चंगुल से आज़ाद हो गई हैं, उनके अपार साहस, विश्वास और दृढ़ता की कठिन परीक्षा समाप्त हो गई।
एक सुखद परिणाम के साथ आधिकारिक बयान माली के राष्ट्रपति की ओर से आया है जिन्होंने उनकी कभी न डगमगाने वाली बहादुरी की प्रशंसा की।
मिशनरी सिस्टर ग्लोरिया का अपहरण जिहादी बंदूकधारियों ने 7 फरवरी 2017 को माली की राजधानी से 400 किलोमीटर दूर बुर्किना फासो की सीमा के निकट कौटियाला में किया था। उसे चार साल आठ महीने कैद में रखा गया था।
मुमाको के महाधर्माध्यक्ष, जीन ज़ेरबो ने पुष्टि की कि सिस्टर ग्लोरिया सुरक्षित और स्वस्थ हैं। उन्होंने कहा: "मैं अधिकारियों और उन सभी भले लोगों को धन्यवाद देता हूँ, जिन्होंने उसकी रिहाई की है। हमने इस दिन के लिए लंबी और लगातार प्रार्थना की है।" पिछले साल फरार हुए दो यूरोपीय लोगों ने पुष्टि की कि सिस्टर ग्लोरिया अभी भी जीवित हैं। फिर मार्च में, उसके भाई को रेड क्रॉस के माध्यम से एक पत्र मिला, जो उसके द्वारा लिखा और हस्ताक्षरित किया गया था।
देश के उत्तर में एक इस्लामी विद्रोह है, जो एक पूर्व फ्रांसीसी उपनिवेश है, और अपहरण इसका हिस्सा बन गए हैं। पीले रंग के कपड़े पहने सिस्टर ग्लोरिया ने माली की अंतरिम राष्ट्रपति असिमी गोइता से मुलाकात की है। एक तस्वीर में वह मुस्कुराती हुई दिखाई दे रही है और उसके हाथ कसकर आपस में जुड़े हुए हैं। संत पिता फ्राँसिस ने सिस्टर ग्लोरिया का अभिवादन कर आशीर्वाद दिया
सिस्टर ग्लोरिया की रिहाई का सुखद अंत रविवार की सुबह हुआ जब संत पापा फ्राँसिस ने खुद वाटिकन में उनका अभिवादन किया। उनकी मुलाकात संत पेत्रुस महागिरजाघर में धर्मसभा प्रक्रिया के समारोही पवित्र मिस्सा बलिदान से पहले हुई थी।
10 अक्टूबर को संत पेत्रुस महागिरजाघर में धर्मसभा प्रक्रिया के समारोही पवित्र मिस्सा बलिदान से पहले संत पापा फ्राँसिस ने सिस्टर ग्लोरिया को आशीर्वाद दिया।

Add new comment

2 + 18 =