देश-विदेश और चर्च न्यूज़ | RVA Hindi | RVA News | June 15

कार्डिनल तागले को पूर्वी चर्चों कांग्रेगेशन का सदस्य बनाया गया।

पोप फ्रांसिस ने गबोन के नये राजदूत का प्रत्यय पत्र किया स्वीकार।

हौरी के धर्माध्यक्ष का कोविड-19 से निधन।

कोरियाई धर्माध्यक्ष बने याजकों के धर्मसंघ के अध्यक्ष।

भारतीय पुरोहित ने रेडियो वेरितास के मुख्य संपादक के रूप में पदभार संभाला।

कोविड -19 से भारतीय जेसुइट्स को सावधानियों के बावजूद सबसे ज्यादा नुकसान।

कोर्ट ने एक्टिविस्ट स्टेन स्वामी के निजी अस्पताल में ठहरने की अवधि 18 जून तक बढ़ाई। 

कोविद पीड़ित भारत के लोगों के लिये कारितास की अपील

असम के मुख्यमंत्री ने गरीबी कम करने के लिए "परिवार नियोजन" की अपील की।

 

कार्डिनल तागले को पूर्वी चर्चों कांग्रेगेशन का सदस्य बनाया गया।

पोप फ्रांसिस ने कार्डिनल लुइस एंटोनियो तागले को वेटिकन निकाय के एक नए सदस्य के रूप में नियुक्त किया है जो दुनिया भर में पूर्वी कैथोलिक चर्चों का समर्थन करता है।कार्डिनल पूर्वी चर्चों के लिए मण्डली का एकमात्र संयोजन है, जो मध्य पूर्व के लैटिन-संस्कार कैथोलिक धर्मप्रांत की भी सहायता करते है।कार्डिनल तागले लोगों के सुसमाचार प्रचार या प्रचार के लिए कलीसिया के प्रधान है, जो चर्च के विशाल "मिशन क्षेत्रों" की देखरेख करता है।

 

पोप फ्रांसिस ने गबोन के नये राजदूत का प्रत्यय पत्र किया स्वीकार।

पोप फ्रांसिस ने शनिवार 12 जून को वाटिकन में गबोन के राजदूत श्री एरिक चेसनेल का स्वागत किया और उनका प्रत्यय पत्र स्वीकार किया। श्री एरिक चेसनेल का जन्म 1952 में हुआ था। उन्होंने संचार, सामाजिक, कानून, अर्थशास्त्र, वित्त के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय संबंध आदि क्षेत्रों में काम किया है।

 

हौरी के धर्माध्यक्ष का कोविड-19 से निधन।

पेरू के धर्माध्यक्ष इवो बाल्दी गाबूर्री का निधन 11 जून को कोविड-19 के कारण हुआ। वे पेरू के पहले धर्माध्यक्ष हैं जिनकी मृत्यु कोविड-19 से संक्रमित होने के कारण हुई है।

"गहरे दुःख किन्तु पुनरूत्थान की आशा के साथ" पेरू की कलीसिया ने कल घोषित किया कि 11 जून को हौरी के धर्माध्यक्ष इवो बाल्दी गाबुर्री का निधन कोविड-19 के कारण हुआ।

पेरू के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने एक विज्ञप्ति जारी कर सभी विश्वासियों से अपील की है कि वे धर्माध्यक्ष बाल्दी गाबुर्री की आत्मा की अनन्त शांति के लिए प्रार्थना करें कि "हमारे प्रभु येसु ख्रीस्त उनके परिवार एवं हौरी धर्मप्रांत के सभी पल्लीवासियों को इस कठिन समय में शक्ति प्रदान करे।"

धर्माध्यक्षों ने विश्वासियों को सूचित किया है कि वे फेसबुक के माध्यम से अंतिम संस्कार के मिस्सा बलिदान में वर्चुवल रूप से भाग ले सकते हैं। 

 

कोर्ट ने एक्टिविस्ट स्टेन स्वामी के निजी अस्पताल में ठहरने की अवधि 18 जून तक बढ़ाई। 

बॉम्बे हाईकोर्ट ने 10 जून को कहा कि एल्गार परिषद-माओवादी लिंक मामले में गिरफ्तार किए गए जेसुइट फादर और कार्यकर्ता स्टेन स्वामी को 18 जून तक मुंबई के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा क्योंकि वह COVID-19 से पीड़ित हैं।84 वर्षीय फादर स्टेन स्वामी को 28 मई को नवी मुंबई के तलोजा जेल से यहां के होली फैमिली अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया था, जब उन्होंने एक याचिका दायर कर चिकित्सा आधार पर अंतरिम जमानत मांगी थी।निजी अस्पताल में स्थानांतरित होने के बाद, वे कोरोना पॉजिटिव पाए गए। अक्टूबर 2020 में गिरफ्तारी के बाद से वह तलोजा जेल में बंद थे।10 जून को, उनके वकील मिहिर देसाई ने जस्टिस एस एस शिंदे और जस्टिस एनजे जमादार की खंडपीठ को बताया कि फादर स्टेन स्वामी कोरोना संक्रमित है और इसलिए, निजी अस्पताल में उनके रहने की अवधि को बढ़ाया जाना चाहिए।

 

कोविद पीड़ित भारत के लोगों के लिये कारितास की अपील

विश्वव्यापी काथलिक कलीसिया के  उदारता संगठन "कारितास  ने भारत के कोविद पीड़ितों के लिये सहायता की अपील की है।कारितास ने तमिल नाड स्थित दिन्दीगुल धर्मप्रान्त के जैकब के साक्ष्य को प्रकाशित कर स्थिति की गम्भीरता को लोगों के समक्ष रखा। एक लघु विडियो में जैकब स्थानीय लोगों की त्रासदियों का विवरण देते हैं। वे बताते हैं कि अनेकानेक लोग अस्पताल में और अस्पताल के बाहर पड़े हैं जिनके लिये उपचार का कोई साधन नहीं है। ऐसी स्थिति में कारितास की मदद आशा का संकेत है।  

 

असम के मुख्यमंत्री ने गरीबी कम करने के लिए "परिवार नियोजन" की अपील की।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने 10 जून को अल्पसंख्यक समुदाय से गरीबी कम करने के लिए जनसंख्या नियंत्रण के लिए एक "सभ्य परिवार नियोजन नीति" अपनाने का आग्रह किया।मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार के 30 दिन पूरे होने के अवसर पर कहा कि समुदाय के सभी हितधारकों को आगे आना चाहिए और समुदाय में गरीबी को कम करने में सरकार का समर्थन करना चाहिए, जो मुख्य रूप से जनसंख्या में निरंतर वृद्धि के कारण है।उन्होंने कहा, "सरकार सभी गरीब लोगों की संरक्षक है, लेकिन उसे जनसंख्या वृद्धि के मुद्दे से निपटने के लिए अल्पसंख्यक समुदाय के समर्थन की जरूरत है, जो गरीबी, अशिक्षा और उचित परिवार नियोजन की कमी का मूल कारण है।"

 

भारतीय पुरोहित ने रेडियो वेरितास के मुख्य संपादक के रूप में पदभार संभाला।

मनीला: एक भारतीय पुजारी पुरोहित ने 11 जून को एशिया के कैथोलिक धर्माध्यक्षों की अखिल एशियाई रेडियो सेवा रेडियो वेरितास एशिया के मुख्य संपादक के रूप में पदभार ग्रहण किया।

फादर फिरोज फर्नांडीस, सेंट फ्रांसिस जेवियर की सोसाइटी ऑफ मिशनरीज के सदस्य है जिन्हें सोसाइटी ऑफ पिलर के नाम से जाना जाता है।

फेडरेशन ऑफ एशियन बिशप्स कॉन्फ्रेंस (एफएबीसी) के तहत सामाजिक संचार कार्यालय ने मई की शुरुआत में फादर फर्नांडीस को तीन साल के कार्यकाल के लिए नियुक्त किया। हालांकि, नियुक्ति की घोषणा 11 जून को ही की गई थी।एफएबीसी-ऑफिस ऑफ सोशल कम्युनिकेशन के कार्यकारी सचिव फादर जॉर्ज प्लाथोट्टम ने कहा कि फादर फर्नांडीस को उनकी शैक्षणिक योग्यता और एक पुरोहित के रूप में अनुभव और चर्च के मीडिया मंत्रालय में उनकी सेवाओं के आधार पर चुना गया।

 

कोरियाई धर्माध्यक्ष बने याजकों के धर्मसंघ के अध्यक्ष।

पोप फ्रांसिस ने कार्डिनल बेनियामिनो स्तेल्ला के इस्तीफे को उनकी आयु सीमा के कारण स्वीकार करते हुए 69 वर्षीय कोरियाई धर्माध्यक्ष लाजारो यू हेयंग सिक को याजकों के परमधर्मपीठीय धर्मसंघ का नया अध्यक्ष नियुक्त किया। पोप फ्रांसिस की 2014 में कोरिया की प्रेरितिक यात्रा के दौरान धर्माध्यक्ष लाजारो ने अपने धर्मप्रांत डाइजॉन में उनका स्वागत किया था।1951 में जन्मे और डाईजॉन धर्मप्रांत के लिए अभिषिक्त धर्माध्यक्ष लाजारो यू हेयंग सिक 2003 में अपने ही धर्मप्रांत के सहायक धर्माध्यक्ष बनें और दो साल बाद धर्माध्यक्ष की पूरी जिम्मेदारी ली। नवनियुक्त अध्यक्ष कोरियाई काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की शांति समिति के अध्यक्ष थे और चार बार उत्तरी कोरिया जा चुके हैं।

 

कोविड -19 से भारतीय जेसुइट्स को सावधानियों के बावजूद सबसे ज्यादा नुकसान।

कोलकाता : दक्षिण एशिया के जेसुइट सम्मेलन के अध्यक्ष फादर स्टैनिस्लॉस डिसूजा ने 10 जून को बताया, "हमारी सद्भावना और प्रयासों के बावजूद, हमने इस साल कोविड -19 में लगभग 37 जेसुइट्स को खो दिया है।"इंडियन करंट्स साप्ताहिक के संपादक कैपुचिन फादर सुरेश मैथ्यू द्वारा संकलित सूची के अनुसार, 11 जून तक, कोरोनावायरस महामारी ने तीन बिशप, 125 डायसेसन पुरोहित और 131 धार्मिक पुरोहित, नौ धर्म भाइयों और 248 धार्मिक बहनों की मौत हो चुकी है।

Add new comment

3 + 0 =