व्हाट्सएप्प और फेक न्यूज़

Whatsapp

आज के इस नए दौर में कई लोग सोशल मीडिया से परिचित हो चुके है। बच्चों से लेकर बूढ़े तक हर कोई इन सोशल मीडिया का आदि हो गया है। यहाँ तक की पेरेंट्स भी अपने बच्चों के साथ सोशल मीडिया पर काफी चीजे शेयर करते है। सोशल मीडिया के नाम पर भारत में ज्यादातर लोग व्हाट्सएप्प इस्तेमाल करते है।

अगर आपने व्हाट्सप्प का सिर्फ नाम ही सुना है और आपको पता नहीं की व्हाट्सप्प क्या है तो में बताना चाहूंगा कि व्हाट्सएप एक मुफ्त संदेश अनुप्रयोग है। जिसमे इंटरनेट की मदद से कोई भी उपयोगकर्ता अपने दोस्तों या परिवार के लोगों को सन्देश भेज सकता है। जिससे आपको किसी को भी संदेश भेजने के लिए पैसे नहीं देने पड़ते है। इसका इस्तेमाल करने के कई फायदे है जैसे आप किसी को भी तस्वीरें, दस्तावेज़ और किसी भी प्रकार के ऑडियो भेज सकते है। यह तो ठीक है लेकिन अब तो आप व्हाट्सएप्प की मदद् से किसी को भी वौइस् कॉल और वीडियो कॉल भी कर सकते है। कई लोग इसके इस्तेमाल से खबरे भी पढ़ते और वह पढ़ने के बाद उसे किसी ओर को फॉरवर्ड यानी भेज देते है ताकि वे भी उसे पढ़े। ऐसा ही करते-करते लोग जाने अनजाने में कितने सन्देश कितने सारे लोगो को फॉरवर्ड कर देते है। और उन्हें यह भी नहीं पता होता है कि उन्होंने जो भी सन्देश या खबर आगे किसी दूसरे को फॉरवर्ड की है वह सच भी है या नहीं। फिर वही फॉरवर्ड का नया खेल खेलने लगते है और ऐसा करते-करते लोग न जाने कितनी फर्जी खबरें कितने ही लोगो को फॉरवर्ड करे देते है। उन्हें यह भी पता नहीं होता की वह खबर सच भी है या नहीं। यह फॉरवर्ड का खेल खेलते-खेलते वह गलत खबर यानी फेक न्यूज़ वायरल कर देते है।

व्हाट्सप्प पर तेजी से वायरल होने वाली फेक न्यूज़ पर लगाम कसने और उसकी सत्यता की पड़ताल करने के लिए व्हाट्सप्प ने फैक्ट चेक सर्विस 'चेकपॉइंट टिपलाइन’  लांच की है। व्हाट्सप्प ने प्रोटो नामक भारतीय कंपनी के साथ मिलकर यह सेवा शुरू की है  जिस पर आप कोई भी संदेश, चित्र या वीडियो भेज कर उसके फेक होने या न होने की जानकारी पा सकते है। खबरों की सत्यता पता करने के लिए व्हाट्सएप ने दस अंकों वाला एक व्हाट्सप्प नंबर जारी किया है।

सुविधा का लाभ लेने के तरीके:

  • जिसमे आप व्हाट्सप्प इस्तेमाल करते है, जारी किए नंबर को अपने फ़ोन में किसी भी नाम से सुरक्षित करे।
  • अब अपना व्हाट्सएप खोलें और इस नम्बर को आपने जिस नाम से सुरक्षित किया था उस नाम से खोजें।
  • यहाँ चेकपॉइंट का ऑफिशियल वेरिफाइड अकाउंट नज़र आएगा।
  • जिस भी संदेश को सहायता की जांच करनी हो उसे आप इस नंबर पर भेज दीजिये।
  • उन्हें संदेश प्राप्त होने के बाद उसकी जांच की जाएगी और उसके अनुसार उस पर असत्य, सत्य, भ्रामक और विवादास्पयद का चिह्न लगाया जाएगा।
  • फिलहाल फैक्ट चैक हिंदी, अंग्रेजी, तमिल, बंगाली, और मलयालम भाषा की जानकारियों की सत्यता ही जांचता है।

- चार्ल्स सिंगोरिया 

Add new comment

2 + 10 =