लौदातो सी: जब हम कपड़ों के साथ सृष्टि की देखभाल करते हैं। 

वेनिस एवं वेरोना के सलेशियन यूनिवर्सिटी (इयूस्वे) ने प्रेरितिक विश्व पत्र लौदातो सी एवं हरित सपना से प्रेरित होकर तीन वर्षों को पारिस्थितिक जागरूकता एवं परिवर्तनकारी अभ्यासों के लिए समर्पित किया है।

इस वास्तविकता के साथ "नैतिक अलमारी" प्रदर्शन का जन्म हुआ जो कपड़े, जूते और कम्पनियों द्वारा उत्पादित सामानों की प्रदर्शनी करती है और जिसका उद्देश्य है उत्पादन प्रक्रियाओं में दोनों की प्रवृत्ति को उलटने की इच्छा करना और बिक्री श्रृंखला में निष्पक्ष, सहायक और टिकाऊ शैली को बढ़ावा देना।

प्रदर्शनी के संयोजक हैं इयूस्वे में रचनात्मक एवं फैशन लैब के प्रोफेसर फ्राँचेस्का बोनोत्तो। पर्यावरणीय स्थिरता में उनकी रूचि उनके पति फेदेरिको गोत्तार्दो के द्वारा बढ़ी जो उसी विश्व विद्यालय में विद्यार्थियों के क्रिया कलापों के प्रमुख एवं प्रदर्शनी के संयोजक थे। उन्होंने कम्पोसनपियरो में फ्रायर माईनर कॉन्वेंट के आध्यात्मिक आश्रम में आयोजित प्रदर्शनी में भाग लिया था।

एक बीमारी का पता लगने के बाद फ्राँचेस्का ने भोजन की गुणवत्ता एवं उसके चयन पर ध्यान दिया। इस जीवनशैली ने दम्पति को एक छोटे, स्थानीय उत्पादक को चुनने हेतु प्रेरित किया जिसने उनकी खरीद प्रक्रिया को अधिक नैतिक और टिकाऊ बनाया।

2019 में फ्राँचेस्का ने मोदापुनतोकोम की स्थापना की जो संचार पर एक रेडियो कोलम है तथा यूनिवर्सिटी प्रसारक क्यूब रेडियो द्वारा फैशन क्षेत्र में विज्ञापन है। इसमें वे बतलाती है कि किस तरह उत्पादन श्रृंखला एवं आध्यात्मिक आयाम को दरकिनार करते हुए अर्जित करने को पहले स्थान पर रखा जाता है। मोदापुनतोकोम के कई अतिथियों के साक्ष्य से विचार आया कि एक प्रदर्शनी का आयोजन किया जाए जो कई पैनलों, कपड़ों एवं जागरूकता से भरी अलमारी को प्रस्तुत करेगा। जिसमें वंचित लोगों द्वारा निर्मित कपड़े और जूते-चप्पल हैं जिनपर ब्रेल लिपि में लिखा गया है, प्रदर्शन में वस्तुएँ महत्वपूर्ण सोच और लौदातो सी की एक ठोस प्रेरणा बन गई है। प्रदर्शन का पहला आयोजन अक्टूबर 2020 में वेनिस मेस्त्रे में किया गया था और अगले आयोजन के लिए एंटी कोविड निर्देश के अनुसार वेरोना में आयोजित किये जाने का प्रस्ताव रखा जाएगा।

Add new comment

11 + 2 =