पर्यावरण की देखभाल, खुद की देखभाल। 

जब पर्यावरणीय स्थिरता और हमारे आस-पास की चीज़ों पर विशेष ध्यान देने की मांग "छात्रों से इतनी दृढ़ता से आती है", तो स्कूलों का कर्तव्य है कि उनकी मांगे पूरी करे। यह रोम के ओराज़ियो सरकारी हाई स्कूल के प्रधानाध्यापक मारिया ग्राज़िया लांचेलोत्ती का कहना है, वे पूरे इटली में हरित स्कूलों के नेटवर्क का नेतृत्व करती हैं। दिसंबर 2019 में स्थापित, नेटवर्क आज पूरे देश में 800 से अधिक स्कूलों को शामिल करता है।
मरिया ग्राज़िया लांचेलोत्ती ओराज़ियो हाई स्कूल के 1,300 से अधिक के छात्रों के "मांग" की बात करती हैं जो हमारे आम घर की देखभाल है। नेटवर्क को "भविष्य के लिए शुक्रवार की लहर पर शुरु किया गया। वे कहती हैं, हमने देखा कि हमारे छात्रों में उन आयोजनों में भाग लेने की बहुत इच्छा थी। इस पहल को आगे लेने की आवश्यकता 2015 में स्पष्ट हो गई। इस वर्ष संत पापा फ्राँसिस के विश्व पत्र 'लौदातो सी' के प्रकाशन के साथ, सभी स्थायी मुद्दों के लिए एक अग्रदूत दस्तावेज जिसे तब संयुक्त राष्ट्र के 2030 एजेंडा में प्रस्तुत किया गया था"। प्रोफेसर मरिया ग्राज़िया कहती हैं कि परिवर्तन का बिन्दू "ग्रेटा थुनबर्ग के आंदोलन और युवा लोगों द्वारा सीधे अनुरोध" के साथ आया था "एक शिक्षणशास्त्र जो इन मुद्दों पर चौकस है: हम यह कह सकते हैं कि हमने जितना युवाओं को सिखाया है उससे कहीं अधिक उनहोंने हमें सिखाया है, यह समझने में कि समय वास्तव में लिखा गया है, हम अब और इंतजार नहीं कर सकते: हमें आगे बढ़ना है।"

लांचेलोत्ती बताती हैं कि एक नेटवर्क के रूप में और एक स्कूल के रूप में "यह महत्वपूर्ण है कि हम अच्छे व्यवहार को प्लेक में रखें। सबसे पहले "प्लास्टिक मुक्त" किया जाना है, इसलिए हमने प्लास्टिक और गैर-पुनर्नवीनीकरण सामग्री के उत्पादन और उपयोग को कम करने के लिए प्रक्रियाएं शुरू की।  हम अलग-अलग अपशिष्ट संग्रह और पुनर्चक्रण पर ध्यान देते हैं - न केवल सबसे आम सामग्रियों का पुनर्चक्रण, बल्कि उदाहरण के लिए, समाप्त सेल फोन का पुनर्चक्रण, जिसे एक संघ के माध्यम से पुन: उपयोग किया जाता है।" फिर से प्रयोग करने वाली सामग्रियों के डब्बों को कक्षाओं और गलियारों में रखा गया है और हम स्कूल से आने-जाने की यात्रा के दौरान प्रदूषणकारी वाहनों के उपयोग को हतोत्साहित करने का प्रयास करते हैं। हम साइकिल रैक प्रदान करते हैं और "विभिन्न विषयों पर विशेषज्ञों के साथ बैठकों के माध्यम से जागरूकता से संबंधित गतिविधियों" की एक श्रृंखला आयोजित की है।

प्रोफेसर मरिया ग्राज़िया बताती हैं, "चल रही महामारी ने निस्संदेह हमारी आदतों को बदल दिया है। लॉकडाउन हमें थोड़ा पंगु बना दिया है और हमें अपने व्यवहार पर फिर से विचार करने के लिए मजबूर किया है। दुर्भाग्य से, सुरक्षा और स्वच्छता के मामले में, उदाहरण के लिए, इस्तेमाल किए गए मास्क को सही तरीके से निपटने की समस्या। जहां तक डिटर्जेंट का सवाल है, हमने और अन्य स्कूलों ने उन लोगों के माल खरीदने का निर्णय लिया है जो पूरी तरह से जैवनिम्नीकरण और टिकाऊ हो और अब हम ऐसे संघों और विक्रेताओं को खोजने की कोशिश कर रहे हैं जो हमें ऐसी सामग्री दें जो वर्तमान आपातकाल के लिए बेहतर एवं अनुकूल हो।

Add new comment

2 + 0 =