म्यांमार की सेना द्वारा ईसाई चर्चों पर जारी हैं हमले।

समुदायों और स्वतंत्र मीडिया संगठनों की रिपोर्ट में कहा गया है कि हाल के हफ्तों में म्यांमार के चर्चों पर सैन्य हमलो की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। देश के पूर्वी हिस्से में काया और शान राज्यों के कई शहरों में सैन्य और स्थानीय मिलिशिया और प्रतिरोध समूहों के बीच लड़ाई ने कम से कम आठ चर्चों को नुकसान पहुंचाया।
हमलों से जिन गिरजाघरों को नुकसान हुआ है उनमें पेकोन में जीसस का स्वर्ण मंदिर और जेरोब्लो मैरियन श्राइन और अवर लेडी ऑफ लूर्डेस गुफा, मोएबे में मदर मैरी चर्च, डेमोसो में सेंट जोसेफ चर्च, दाऊ नगन खार गांव में कैथोलिक चर्च और लोइकाव में सेंट पीटर चर्च शामिल हैं।
रेडियो फ्री एशिया की एक रिपोर्ट में कायाह राज्य के डेमोसो के एक कैथोलिक पुरोहित के हवाले से कहा गया है, "यह सिर्फ एक इमारत है, लेकिन यह लोगों के दिलों को आहत करती है। क्या वे सिर्फ हमें निशाना बना रहे हैं? मैं दोनों पक्षों से भविष्य में इस तरह के हमले नहीं करने की अपील करना चाहता हूं।
जब सैनिकों ने गांवों पर हमला किया तो सैकड़ों लोगों ने कथित तौर पर चर्चों में शरण मांगी थी। मोएबे और पेकोन में संघर्ष के दौरान, लोगों ने चर्चों में शरण मांगी, लेकिन सरकारी सैनिकों ने कथित तौर पर चर्चों पर हमला किया जिसके परिणामस्वरूप नागरिकों के बीच हताहत हुए।
कार्डिनल चार्ल्स माउंग बो, म्यांमार के सर्वोच्च कैथोलिक चर्च के अधिकारी, पहले देश में चर्चों पर हमले पर "अत्यधिक दुख और दर्द" व्यक्त कर चुके हैं, जिसके परिणामस्वरूप नागरिकों की मौत हो गई थी।

Add new comment

10 + 0 =