वापसी 

नबी एजेकिएल इस्राएलियों को प्रभु का वचन सुनाते हुए कहते हैं, "मैं इस्राएलियों को उन राष्ट्रों में से इकट्ठा करूँगा, जहाँ वे चले गये हैं। मैं उन्हें चारों दिशाओं से इकट्ठा करूँगा और उन्हें उनकी निजी भूमि वापस ले जाऊँगा।” ईश्वर अपनी प्रजा को एकत्र करने के लिये अपने पुत्र येसु को इस दुनिया में भेजा ताकि लोग उनकी वाणी सुनकर अपने सृष्टिकर्ता ईश्वर के पास लौट कर आयें। ईश्वर अपनी प्रजा को पवित्र करना चाहते हैं।
येसु अपने वचनों और चमत्कारों के द्वारा ईश्वर की महिमा प्रकट करते और अपनी चुनी हुई प्रजा को एकत्र करते हैं। उनके वचनों और चमत्कारों को देख कर बहुत से लोग येसु में विश्वास करने लगे थे। इसलिए महायाजक और फरीसी येसु से जलते थे और येसु को मार डालना चाहते थे। वे येसु का किसी भी प्रकार से सर्वनाश करना चाहते थे। लेकिन ईश्वर की अपनी एक पवित्र योजना और इच्छा थी कि वह अपने लोगों को एकत्र करे और उन्हें अपनी महिमा से महिमान्वित करे। आज हममें से प्रत्येक को आमंत्रित किया जाता है कि हम ईश्वर के पास लौटकर आयें और ईश्वर की योजना के अनुसार अपने को समर्पित करें ताकि वह हमें पवित्र कर महिमान्वित करें।

Add new comment

7 + 12 =